Ranj

29542695_217747342139240_2038027557293410478_n

The route to Divine love is not that smooth as it may seem

The pain in disguise is greater than what death would give.

His means are strange His tricks are killing

And we have to move exactly the way He is willing.

Translated from an unknown source-

जब श्याम से उल्फत होती है

हर रंज उठाना पड़ता है।

कज़ा से भी जो बाईस हो

वो दर्द अपनाना पड़ता है।

वह जुल्म करे और रुठे भी

यह उसकी अपनी आदत है

हम अपनी आदत क्यों छोड़ें

मिन्नत से मनाना पड़ता है।

यह इश्क नहीं घर खाला का

इसको भी समझना लाज़िम है

हर नक्शे कदम पर दिलबर के

इस सिर तो झुकाना पड़ता है।

Ranj- sadness

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s